Sawan 2020: सोमवार से शुरू हुआ सावन, जाने इसके पीछे की कहानी

Sawan 2020: सोमवार से शुरू हुआ सावन, जाने इसके पीछे की कहानी

Sawan 2020: सावन का महीना 6 जुलाई को सोमवार के दिन से शुरू हो रहा है. इसके साथ ही यह दिन काफी ज्यादा खास होने वाला है. इसके साथ ही भगवान भोलेनाथ जी अपने भक्तों की भक्ति से बड़ी जल्दी प्रसन्न होते हैं. इसके साथ ही सावन का महीना भगवान भोलेनाथ जी का सबसे प्रिय महीना होता है. इसकी वजह से ही सावन का पूरे महीना भगवान भोलेनाथ जी को अर्पित किया जाता है और उनकी पूजा की जाती है. लेकिन इसके पीछे एक पौराणिक कहानी जुड़ी हुई है जिसके बारे में हम आप लोगों को बताने जा रहे हैं. 

Sawan 2020: सोमवार से शुरू हुआ सावन, जाने इसके पीछे की कहानी
Image Courtesy: Third Party Image

सावन के सोमवार की कथा पैराणिक समय के समुंद्र मंथन से जुड़ी हुई है. जिस समय असुर और देवताओं के बीच समुद्र मंथन की प्रक्रिया शुरू हुई तो उसमें से विष का कलश निकला था. इस विष के भरे कलर्स को असुरों और देवताओं ने लेने से मना कर दिया था. लेकिन वही भगवान शिव शंकर जी ने उस विष को समाप्त करने के लिए उसका सेवन कर गए थे. विष अधिक सेवन करने की वजह से भगवान शिव जी के शरीर का तापमान लगातार बढ़ता जा रहा था. जिसकी वजह से उनके शरीर अत्यधिक गर्म हो गया था. 

इसे भी जाने- Sawan Somvar 2020: 6 जुलाई से शुरू हुआ सावन, भोलेनाथ के भक्तो के लिए ख़ास है ये दिन…

इसके बाद भगवान शिव शंकर जी के गले से वह विष नीचे उतरने लगा. जिसकी वजह से भगवान शिव जी का कंठ नीला पड़ गया. उसी समय पर उनका नाम नीलकंठ भी पड़ा था. भगवान शिव को जब विष पीने की वजह से परेशानी होने लगी तो सभी देवताओं ने मिलकर भगवान शिव जी के ऊपर जल चढ़ाना शुरू कर दिया, इसी दौरान इंद्रदेव जी ने भी शिवजी भगवान जी के शरीर को शीतल करने के लिए वर्षा कर दी थी. इसी क्रिया के बाद यह महीना सावन का महीना कहा जाता है. इसके साथ ही इसी घटना के बाद कावड़ यात्रा भी आरंभ हुई जो पिछले हजारों सालों से लगातार चली आ रही है. 

दतेज परिवार के ओर से भगवान शिव जी की कृपा आप सभी पर बनी रहे हम ऐसी मनोकामना करते हैं. आगे भी ऐसे ही जानकारियां पाने के लिए हमें फॉलो करें. और अपने प्रियजन, मित्रों और परिवार वालों से इसे शेयर करना ना भूले. 

इसे भी जाने- Coronavirus Live Update: देश में पहुंचे 6 लाख से ऊपर कोरोना के मरीज, 24 घंटे में 437 पहुंचा मौत का आंकडा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *