रिकॉर्ड: टेस्ट इतिहास में भारत के वो 5 यादगार मैच, जिन्हे भूलना है मुश्किल

रिकॉर्ड: टेस्ट इतिहास में भारत के वो 5 यादगार मैच, जिन्हे भूलना है मुश्किल

सिडनी में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हालिया श्रृंखला के तीसरे टेस्ट इतिहास में, भारतीय टीम ने हार की कगार पर होने के बावजूद एक ऐतिहासिक ड्रॉ बनाए रखा। भारतीय टीम की लड़ाई की भावना की प्रशंसा पूरे क्रिकेट जगत द्वारा की जा रही है। भारत को जीत के लिए मैच के आखिरी दिन 309 रनों की जरूरत थी और उसके हाथ में आठ विकेट थे। उसके बाद भी, भारतीय टीम को पूरे दिन खेलने के बाद मैच को ड्रॉ कराने में उनकी सफलता के लिए सराहना की जा रही है।

हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब भारतीय टीम ने टेस्ट इतिहास हार के बावजूद मैच को ड्रा पर रखा हो। इस लेख में हम 5 मौकों को देखेंगे जब भारतीय टीम ने हार के बावजूद मैच को ड्रा में रखा।

5) इंग्लैंड (1980) –

1980 में इंग्लैंड के ओवल में लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर के शानदार प्रदर्शन ने भारत को ड्रॉ में मदद की। इंग्लैंड के खिलाफ 438 रन का पीछा करते हुए, भारत ने आठ के लिए 429 रन बनाए। सुनील गावस्कर ने 221 रनों की ऐतिहासिक पारी खेली थी।

4) इंग्लैंड (1990)

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के धुआंधार शतक ने भारत को इंग्लैंड में ऐतिहासिक ड्रॉ में मदद की। 408 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम ने एक समय 6 विकेट गंवा दिए थे और 183 रन बनाए थे। हालांकि, इस बार युवा सचिन रमेश तेंदुलकर ने दृढ़ संकल्प और आत्मविश्वास के साथ मैदान पर खेला और मैच को ड्रॉ रखा। यह ऐसा था जैसे इस खेल के बाद सचिन युग क्रिकेट की दुनिया में शुरू हुआ था।

3) दक्षिण आफ्रिका (2001)-

पोर्ट एलिजाबेथ, दक्षिण अफ्रीका में, भारतीय टीम ने 2001 में एक टीम मैच में ड्रा रखा। दक्षिण अफ्रीका ने भारत के सामने मुश्किल पिच पर 395 रनों का लक्ष्य रखा था। द्रविड़ ने 241 गेंदों में 87 रन बनाए जबकि दीप दास गुप्ता ने 281 गेंदों पर 67 रन बनाए। यह मैच बॉल टैम्परिंग विवाद के लिए भी व्यापक रूप से जाना जाता है।

2) इंग्लैंड (2007) –

इंग्लैंड के खिलाफ 380 रनों का पीछा करते हुए, भारतीय टीम ने महेंद्र सिंह धोनी की बारिश और बारिश की मदद से मैच को ड्रा पर रखा। भारतीय टीम को चार सीजन तक बल्लेबाजी करने की जरूरत थी। इस बार धोनी ने 150 गेंदों पर 76 रन बनाए थे। भारत ने पांचवें दिन 9 विकेट गंवाए थे। हालांकि, पिछले सीजन को बारिश के कारण रद्द कर दिया गया था और भारत ने मैच को ड्रा पर रखा था।

1) न्यूजीलैंड (2009) –

न्यूजीलैंड के खिलाफ फॉलोऑन पाने के बाद, भारतीय टीम का 5 सीज़न खेलने पर बड़ा ध्यान था। लेकिन इतनी गंभीर स्थिति में भी गौतम गंभीर ने टीम के लिए अच्छा खेला। वास्तव में, यह मैच अपनी गंभीर लड़ाई के लिए जाना जाता है। गंभीर ने भारत की दूसरी पारी में 436 गेंदों पर 437 रन बनाए। इस मैच में राहुल द्रविड़, सचिन तेंदुलकर और लक्ष्मण ने भी गंभीर का अच्छा साथ देकर मैच को बचाया।

OMG: भारत के 3 खिलाड़ी रन आउट, 12 साल बाद एक बार बन गाय यह शर्मनाक रिकॉर्ड

Happy Birthday Rahul: क्रिकेट के इतिहास में ऐसा करने वाले एकमात्र है राहुल द्रविड़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *