NIKE और BCCI का रिश्ता हो सकता है खत्म, जाने क्यों

NIKE और BCCI का रिश्ता हो सकता है खत्म, जाने क्यों 1

टीम इंडिया की नीले रंग की जर्सी पर एक निशान पिछले 14 सालों से है. धोनी, विराट, रोहित शर्मा जब भी मैदान पर उतरते हैं तो उनकी जर्सी पर वो निशान हमेशा चमकता रहता है. लेकिन अब 14 साल बाद वो लोगो टीम इंडिया की जर्सी से हट सकता है. हम बात कर रहे हैं BCCI की किट पार्टनर NIKE की. जिसका कॉन्ट्रैक्ट BCCI के साथ खतरे में पड़ गया है. इसकी वजह कोरोना वायरस के चलते हुआ लॉकडाउन भी है. आइए आपको बताते हैं आखिर मामला क्या है.

NIKE और BCCI रिश्ता हो सकता है खत्म

Nike replaces Team India's 'sub-standard' training kits – InsideSport

इकोनॉमिक्स टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय क्रिकेट टीम जल्द ही जर्सी पार्टनर नाइकी को अलविदा कह सकती है. इसकी वजह BCC Iऔर नाइकी के बीच कॉन्ट्रैक्ट विवाद है. बता दें NIKE की BCCI से मौजूदा डील सितंबर में खत्म हो रही है. नाइकी ने चार साल की डील के लिए 370 करोड़ रुपये दिये थे. जिसमें 85 लाख प्रति मैच फीस थी और साथ ही 12-15 करोड़ की रॉयल्टी भी इसमें शामिल थी. लेकिन कोरोना वायरस फैलने के बाद NIKE को खासा नुकसान हुआ है. लॉकडाउन की वजह से मैच रद्द हुए और अब NIKE चाहती है कि उसका करार BCCI. सूत्रों के मुताबिक बोर्ड इसके लिए तैयार नहीं है और वो जल्द ही इसके लिए नया टेंडर ला सकती है. NIKE और BCCI का रिश्ता हो सकता है खत्म,

लॉकडाउन के दौरान टीम इंडिया के 12 इंटरनेशनल मैच रद्द हुए

बता दें लॉकडाउन के दौरान टीम इंडिया के 12 इंटरनेशनल मैच रद्द हुए हैं. जिसमें साउथ अफ्रीका के खिलाफ सीरीज शामिल है. साथ ही टीम इंडिया को श्रीलंका दौरे पर भी जाना था. जिम्बाब्वे से भी उसे सीरीज खेलनी थी. डील के मुताबिक नाइकी कंपनी टीम इंडिया को जूते, जर्सी और दूसरा साजो-सामान मुफ्त में मुहैया कराती है. साथ ही टीम इंडिया की जर्सी पर उनका लोगो रहता है. बता दें नाइकी और BCCI के बीच साल 2006 में पहली बार डील हुई थी, तभी से ये कंपनी टीम इंडिया को जर्सी और जूते मुहैया करा रही है, लेकिन अब ये BCCI और NIKE का रिश्ता टूटने की कगार पर पहुंच गया है. NIKE और BCCI का रिश्ता हो सकता है खत्म.

क्रिकेट के इतिहास में सबसे तेज गेंद डालने का रिकॉर्ड, पहले ने डाली 161.3

OMG: भारतीय टीम का यह ऑलराउंडर पूरी तरह वापसी के लिए है तैयार, जाने

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *