Kargil 2020: भारतीय वायुसेना व थल सेना से डर गए थे पाक सैनिक, जाने कारगिल से जुडी 10 बाते

Kargil 2020: भारतीय वायुसेना व थल सेना से डर गए थे पाक सैनिक, जाने कारगिल से जुडी 10 बाते

Kargil 2020: 26 जुलाई 1999 के दिन पाकिस्तान के बीच हरकतों का जवाब देते हुए. भारतीय वायु सेना थल सेना ने कारगिल युद्ध में जीत हासिल की थी. इस ऑपरेशन का नाम ऑपरेशन विजय रखा गया था. जिसकी वजह 26 जुलाई को पूरा देश कारगिल विजय दिवस के रूप में याद करता है. मई में एक चरवाहे ने सेना को जानकारी दी थी कि पाकिस्तानी घुसपैठियों ने कारगिल की ऊंची पहाड़ियों पर कब्जा जमा लिया है. जिसके बाद भारतीय सेना ने कार्रवाई करनी शुरू कर दी थी. इस दौरान युद्ध में 5000 घुसपैठिए शामिल थे जिसमें 30,000 भारतीय जवान शामिल थे. 

भारतीय थल सेना और वायु सेना के जवाबी कार्रवाई के बाद पाकिस्तानी सेना को अपने कदम पीछे हटाने पड़े .थे इस युद्ध के दौरान दोनों देशों की सेनाओं को काफी ज्यादा मुश्किलों का सामना करना पड़ा था. इस दौरान भारत के 1300 जवान शहीद हुए थे. जबकि पाकिस्तान के 2600 सैनिकों को ढेर किया गया था. वही 240 सैनिक मैदान छोड़ भाग गए थे. लेकिन इस घटना के दौरान कई घटनाएं ऐसी घटी थी जिसकी जानकारी आपको पता होनी चाहिए. आज हम आपको कारगिल विश्व युद्ध से जुड़ी ऐसी 10 बातें बताने वाले हैं तो आइए जानते हैं इसके बारे में. 

  1. कारगिल के युद्ध में पाकिस्तानी सेना को पहाड़ियों से खदेड़ने के लिए ऑपरेशन विजय नाम दिया गया था. 
  2. कारगिल का युद्ध लगभग 2 महीने तक चला था मई से शुरू हुए इस युद्ध में 26 जुलाई को भारतीय सेना ने जीत लिया था. 
  3. इस युद्ध के दौरान भारतीय नौसेना भी अहम भूमिका निभा रही थी नौसेना ने ऑपरेशन तलवार चलाकर पाकिस्तान के कराची समेत कई बंदरगाहों को रोक दिया था जिससे कारगिल युद्ध में पाकिस्तान की ओर से इंधन रेलवे जरूरी सामान की सप्लाई ना हो सके. 
  4. ऊंची पहाड़ियों पर बैठे पाकिस्तानी सैनिकों के सामने भारतीय सैनिकों का ऊपर जाना बहुत ही मुश्किल था इसी वजह से भारतीय सैनिक रात के समय मुश्किल चढ़ाई को पूरा करते थे. 
  5. इस युद्ध के दौरान भारतीय वायुसेना ने बड़ी अहम भूमिका निभाई थी इस युद्ध के दौरान भारतीय वायुसेना ने पहली बार mig-29 27 और मिराज विमानों का इस्तेमाल किया था. Mig-27 के वार इतने ज्यादा सटीक थे कि पाकिस्तानी सेना उसकी आवाज सुनकर ही घबरा जाती थी. 
  6.  Mig-27 ने पाकिस्तानी सेना के पैर उखाड़ दिए थे इसके साथ ही वायु सेना ने mig-27 को बहादुर का नाम दिया था जबकि पाकिस्तान की सेना इस विमान से इतना खौफ खाती थी. कि उन्होंने इसका नाम ‘चुड़ैल’ रख दिया था. 
  7. पाकिस्तानी सेना ने युद्ध से पहले भारतीय पेट्रोलिंग टीम के 5 जवानों को मार दिया था. जिसके बाद भारतीय सेना ने उनके 26 जवानों और दो हजार से ज्यादा उग्रवादियों को ढेर किया था. 
  8. इस युद्ध के दौरान भारतीय सेना ने लगभग 2,50,000 गोले दागे थे. जिसमें 17 से 25 दिनों के बीच में हर मिनट में एक राउंड फायर किया गया था. 
  9. पाकिस्तान को इस युद्ध के दौरान भारत के मिराज 2000 mig-27 और उम्मीद तो इनका इतने ज्यादा खतरा था कि उन्होंने अपने लड़ाकू विमान चलाना भी सही नहीं समझा. 
  10. कारगिल के युद्ध के दौरान अगर पाकिस्तान अपने पैर पीछे नहीं हट आता तो पाकिस्तान को उसका बड़ा हिसाब चुकाना पड़ सकता था. जिसकी जानकारी बाद में भारत के सेनानायक वेद प्रकाश मलिक ने दी थी.

भारतीय वायुसेना व थल सेना के बारे में आपके क्या विचार है ? कमेन्ट में बताये. देश से जुडी इस खास जानकारी को अपनों से शेयर अवश्य करे.

Kargil Vijay Diwas 2020: हिंदुस्तान के इस बहादुर से डरता था पाकिस्तान, खौफ की वजह से नाम दिया था ‘चुड़ैल’

पाकिस्तानी सेना ने भारतीय सेना की पेट्रोलिंग टीम के 5 लोगों दिया था मार, फिर 240 पाकिस्तानी सैनिकों ने दबाई थी दुम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *