UP में फिर लग सकता है पूर्ण लॉकडाउन हालात खराब, जाने…

प्रदेश में भी पिछले कुछ दिनों से कोरोना वायरस के संक्रमण की रफ्तार में उछाल देखा जा रहा है. उधर, पांच साल तक राजधानी लखनऊ के सीएमओ रहे डा. एसएनएस यादव ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि सरकार बहुत जल्दी से फिर से लॉकडाउन लगा देना चाहिए. उन्होंने दावा करते हुए कहा कि अगर लॉकडाउन का कड़ाई से पालन नहीं हुआ तो वो दिन दूर नहीं जब उत्तर प्रदेश भी बन सकता है वुहान शहर. दरअसल, उत्तर प्रदेश में बढ़ते हुए आंकड़ों पर अगर ध्यान दें तो मौजूदा वक्त में पॉजिटिव केसों की संख्या 50 हजार के करीब पहुंचने वाली है. यूपी में तमाम कवायदों के बाद भी कोरोना संक्रमण रुकने का नाम नहीं ले रहा है. प्रदेश के तमाम इलाकों में मौतों का आंकड़ा भी लगातार बढ़ा है. विशेषज्ञ पहले से भी कहते रहे हैं.पूर्ण लॉकडाउन कि जुलाई और अगस्त का महीना स्वास्थ्य विभाग के लिए सबसे बड़ा चैलेंज वाला होगा. पिछले 15 दिनों के आंकड़ों को देखें तो लगातार केस तेजी से बढ़ रहे हैं.

उत्तर प्रदेश के सभी बड़े शहर कोरोना को लेकर के लगातार संख्या से परेशान हैं. मौजूदा वक्त में हालात इस तरह से खराब हो चुके हैं कि सूबे के एक दर्जन से ज्यादा शहरों में कैंटोनमेंट जोनों की संख्या 100 के पार पहुंच गई है. राजधानी लखनऊ की बात करें तो शहर में 200 से ज्यादा कंटेनमेंट जोन की संख्या है. पिछले एक हफ्ते के भीतर लखनऊ में कोरोना का आंकड़ा 1000 से ज्यादा बढ़ गया है, वहीं राजधानी में कुल संख्या अब साढ़े 3 हजार पहुंचने वाली है. पूर्ण लॉकडाउन लखनऊ के पूर्व मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ एसएनएस यादव मौजूदा हालात पर चिंता व्यक्त करते हुए कहते हैं कि सरकार को पूर्ण लॉकडाउन जैसे सख्त कदम उठाने की अब जरूरत है.

Lockdown in UP: Uttar Pradesh Government Imposes Lockdown In State ...

जिस तरह से केस बढ़ रहे हैं. पूर्ण लॉकडाउन इससे साफ तौर से माना जा सकता है कि जुलाई माह का आखरी और अगस्त के महीने में काफी बड़ा इंतिहान होने वाला है. अगर सख्त कदम का पालन नहीं कराया गया तो जमीन पर हालात काफी खराब हो जाएंग पूर्व सीएमओ कहते हैं कि पिछले एक महीने की आंकड़ों पर बात करते हुए वह कहते हैं कि यही नहीं 80 फीसद से ज्यादा मरीज बिना लक्षण वाले हैं. बिना लक्षण वाले मरीजों को अब उनके निजी घरों में ही रखे जाने की जरूरत है.

पूर्व सीएमओ ने कहा कि लगातार सरकार के इंफ्रास्ट्रक्चर पर बिना लक्षण वाले मरीजों ने कब्जा जमा लिया है. जिससे पिछले कुछ दिनों में लगातार कोरोना के बढ़ते तादाद वाले मरीजों के इलाज में भी परेशानी आ रही है.उत्तर प्रदेश के सभी बड़े शहर जैसे लखनऊ, गाजियाबाद, गौतम बुद्ध नगर ,मेरठ ,वाराणसी ,आगरा, गोरखपुर और कानपुर को देखें तो पता चलता है पूर्ण लॉकडाउन कि हालात बेकाबू होते हुए नजर आ रहे हैं. उत्तर प्रदेश में नमूनों की ज्यादा जांच हो रही है ये बात सच है लेकिन विशेषज्ञ भविष्य की तरफ जब देखते हैं तो उनके माथे पर चिंता की लकीरें साफ तौर से दिखाई देती.

LIVE: 34,884 नए मामलों के साथ भारत का COVID-19 1,038,716 तक पहुंचा…

OMG: देश में कोरोना से पीड़ित लोगों की संख्या 10 लाख पार, 1 दिन में बढ़ रहे 35 हजार से ज्यादा केस, जाने हाल…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top