शर्मनाक: अमेरिका में भारतीय दूतावास के बाहर खालिस्तानी झंडे दिखाये, किसान होने का किया जा रहा दावा

शर्मनाक: अमेरिका में भारतीय दूतावास के बाहर खालिस्तानी झंडे दिखाये, किसान होने का किया जा रहा दावा

अमेरिका के वाशिंगटन डीसी में खालिस्तान समर्थक कार्यकर्ताओं ने एक बार फिर खालिस्तानी झंडे के साथ कृषि कानूनों के विरोध में भारतीय दूतावास के बाहर धरना दिया। गणतंत्र दिवस के अवसर पर भारत सरकार द्वारा लागू किए गए तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए खालिस्तान के समर्थकों ने आह्वान किया है।

एफआईआर यह मांग करते हुए प्रदर्शनकारी खालिस्तान के झंडे लेकर जा रहे थे। भारतीय दूतावास के सामने पहले भी इस तरह के विरोध प्रदर्शन हो चुके हैं। पिछले साल दिसंबर में, प्रदर्शनकारियों ने दूतावास के बाहर खालिस्तान के झंडे लहराकर महात्मा गांधी की छवि को धूमिल किया।संयुक्त राज्य अमेरिका: खालिस्तान समर्थकों ने भारत में कृषि कानूनों के विरोध में वाशिंगटन डीसी में भारतीय दूतावास के बाहर विरोध प्रदर्शन किया।

देश पिछले पाँच महीनों से कृषि कानूनों से असंतुष्ट है। पंजाब और हरियाणा में किसान लगभग 62 दिनों से दिल्ली की सीमा पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, जिसमें मांग की गई है कि कानूनों को काला कर दिया जाए। 26 जनवरी को, गणतंत्र दिवस को सही ठहराते हुए, किसानों द्वारा अपनी मांगों पर दुनिया का ध्यान आकर्षित करने के लिए एक ट्रैक्टर परेड का आयोजन किया गया था।

हालांकि, इस परेड में भ्रम होगा। कुछ स्थानों पर किसानों और पुलिस के बीच संघर्ष का माहौल था। कुछ प्रदर्शनकारी हिंसक हो गए और लाल किले पर धार्मिक झंडे फहराए। आरोप है कि प्रदर्शनकारी किसान नहीं बल्कि घुसपैठिए थे। यह आरोप लगाया गया है कि भाजपा से जुड़े पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू ने लाल किले पर ध्वजारोहण किया। दीप सिद्धू ने बीजेपी सांसद सनी देओल के लिए प्रचार किया था।

Republic Day 2021: गणतंत्र दिवस से जुड़ी ये खास बातें नहीं जानते होगें आप, जाने

Chankya Niti: आपके सत्यानाश का कारण बन सकती है ये पांच आदतें, जानकर आज ही छोड़े

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *