Delhi violence: 22 एफआईआर दर्ज, खालिस्तान समर्थकों का ट्विटर अकाउंट बैन

दिल्ली पुलिस हमले के आरोप में 44 गिरफ्तार, जाने हालात

Delhi violence: गणतंत्र दिवस के अवसर पर ट्रैक्टर रैली के नाम पर, प्रदर्शनकारी किसानों ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में हिंसा की और अराजकता पैदा की। कृषि कानूनों का विरोध करने वाले किसानों का एक समूह ट्रैक्टरों के साथ प्रतिष्ठित लाल किले पर पहुंचा और प्राचीर पर एक धार्मिक झंडा लगाया, जहां प्रधानमंत्री 15 अगस्त को भारत का तिरंगा फहराते हैं।

रैली के दौरान किसानों की हिंसा के संबंध में अब तक दिल्ली पुलिस ने कुल 22 एफआईआर दर्ज की हैं ।

पुलिस अब हर जगह लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज निकालकर प्रदर्शनकारियों की पहचान करने की कोशिश कर रही है। स्पेशल सेल, क्राइम ब्रांच की मदद भी सेंट्रल दिल्ली के लालकिला, नांगलोई, मुकरबा चौक पर लगे सीसीटीवी कैमरों से फुटेज निकालने के लिए ली जा रही है।

दीप सिद्धू पर आया सनी देओल को गुस्सा, लालकिले पर लहराया था खालिस्तानी झंडा

हिंसा के बाद कुछ खालिस्तान समर्थकों के ट्विटर अकाउंट भी सस्पेंड कर दिए गए हैं। रिपोर्टों के अनुसार, खातों का इस्तेमाल भारत विरोधी एजेंडा फैलाने के लिए किया जा रहा था। ये खाते कनाडा और यूके से संचालित किए गए थे।

इस बीच, भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि हिंसा केंद्र और यूपी सरकार की विफलता है। किसानों को जानबूझकर जाल में फंसाया गया, उन्होंने कहा कि कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन अभी भी जारी रहेगा और अगर सरकार बात करती है तो हम बात करेंगे।

सुरक्षा कारणों से, दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (DMRC) ने कहा है कि लाल किला मेट्रो स्टेशन पर निकास और प्रवेश द्वार सुरक्षा के लिए बंद हैं, जबकि जामा मस्जिद स्टेशन पर प्रवेश बंद है, हालांकि स्टेशन से बाहर निकलने की अनुमति यहाँ है। इसके अलावा, दिल्ली मेट्रो के अन्य सभी स्टेशन खुले हैं और सभी लाइनों पर सामान्य सेवाएं चल रही हैं।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली हिंसा मामले में बुधवार को एक उच्चस्तरीय बैठक बुलाई है। बैठक में गृह सचिव और आईबी के निदेशक भी उपस्थित रहेंगे। शाह आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात कर सकते हैं। मंगलवार को हुई गृह मंत्रालय की बैठक में, दिल्ली में पैरा मिलिट्री फोर्स की 15 अतिरिक्त कंपनियों को तैनात करने का निर्णय लिया गया।

Chankya Niti: आपके सत्यानाश का कारण बन सकती है ये पांच आदतें, जानकर आज ही छोड़े

शर्मनाक: अमेरिका में भारतीय दूतावास के बाहर खालिस्तानी झंडे दिखाये, किसान होने का किया जा रहा दावा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *