रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किया बड़ा ऐलान कहा- दूसरों देशो से खरीदे जाने वाले 101 सैन्य हथियारो पर लगेगा बैन

घरेलू रक्षा उद्योग को बढ़ावा देने के लिए एक प्रमुख सुधार पहल में, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को 101 हथियारों और सैन्य प्लेटफार्मों के आयात पर प्रतिबंध की घोषणा की है। जिसमें तोपखाने की बंदूकें, असॉल्ट राइफलें(AR) और लड़ाकू विमान शामिल हैं।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने घोषणा करते हुए ट्विटर पर कहा, “रक्षा मंत्रालय अब #AtmanirbharBharat की पहल के लिए एक बड़ी लड़ाई के लिए तैयार है”

उन्होंने कहा कि मंत्रालय ने 101 वस्तुओं की एक सूची तैयार की है जिसके लिए आयात पर प्रतिबंध को 2020 और 2024 के बीच उत्तरोत्तर लागू करने की योजना है। इसके साथ ही हाल ही मे भारत सरकार ने चीन की 59 एप्स बैन की थी जिसके बाद भारत मे ऐसी ही भारतीय ऐप के प्रयोग मे तेजी देखने को मिली है। वहीं अब यह कंपनियाँ भारत मे रोजगार के अवसर प्रदान कर रही है।

101 एम्ब्रॉएडर्ड आइटमों की सूची में तोपखाने की बंदूकें, असॉल्ट राइफलें, कोरवेट, सोनार सिस्टम, ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट, लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर (एलसीएच), रडार और कई अन्य आइटम जैसे कुछ उच्च प्रौद्योगिकी हथियार सिस्टम शामिल हैं।

सिंह ने कहा कि यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जाएंगे कि आयात के लिए एक नकारात्मक सूची के तहत पहचाने जाने वाले उपकरणों के घरेलू उत्पादन की समयसीमा पूरी की जाए, उपायों को शामिल करते हुए रक्षा सेवाओं द्वारा उद्योग को हाथ से पकड़े जाने के लिए एक समन्वित तंत्र शामिल होगा।

उसने कहा “आयात पर प्रतिबंध को 2020 और 2024 के बीच उत्तरोत्तर कार्यान्वित करने की योजना है। सूची के प्रख्यापन के पीछे का उद्देश्य सशस्त्र बलों की प्रत्याशित आवश्यकताओं के बारे में भारतीय रक्षा उद्योग को अवगत कराना है ताकि वे स्वदेशीकरण के लक्ष्य को महसूस करने के लिए बेहतर रूप से तैयार हों।” वहीं देश मे बने इन सामानो को दूसरों देशो मे निर्यात किया जाएगा। इसके साथ ही ऐसा होने पर भारत का नाम भी दुनिया के उन देशो में जुड़ जाएगा जो दूसरे देशो को इस तरह के हथियार बेचते है।

OMG; भारत हुई 19 लाख से ऊपर लोगो की पुष्टी 1 दिन में मिलने वाले संख्या हुए 53,975 जाने पूरी खबर

Krishna Janmashtami 2020: हर हिन्दू पता होनी चाहिए भगवान कृष्ण की ये ख़ास बाते

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top