Dahi Handi 2020 celebrations: जानिए दही हांडी, गोविंद और कृष्ण जन्माष्टमी के बारे में विस्तार से

Dahi Handi 2020 celebrations: कृष्ण जन्माष्टमी को भगवान विष्णु के आठवें अवतार रहे भगवान कृष्ण के जन्म को याद करने के लिए पूरे देश में बहुत धूम-धाम और हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। कृष्ण जन्माष्टमी का त्यौहार आज (मंगलवार) को मनाया जा है। 

जन्माष्टमी के त्योहारों में से एक दही हांडी भी शामिल है, जो दही या दही से भरे हांडी या मिट्टी के बर्तन को पाने और उसे तोड़ने के लिए मानव सीढ़ी बनाने वाले युवाओं की ताकत व जज्बे को देखा जाता है।

इसमें हिंदू शास्त्रों के अनुसार, भगवान कृष्ण बचपन में वृंदावन में मक्खन, दही और दूध के शौकीन थे और वे अपने पड़ोसियों से भी ये चोरी करते थे। कृष्ण की माँ यशोदा उससे बहुत नाराज थीं। वह भगवान कृष्ण को बांधती थी और गाँव की अन्य महिलाओं को अपने मिट्टी के बर्तन को मक्खन से बाँधने की सलाह देती थी ताकि उनके घर की छत तक पहुँच सके। हालाँकि, कृष्णा ने इस समस्या को हल करने का एक तरीका खोजा। उन्होंने अपने दोस्तों के साथ मिलकर हांडी तक पहुँचने, इसे तोड़ने और इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करने के लिए मानव सीढ़ी का प्रयोग किया करते थे। जिसके बाद युवाओ के द्वारा उस हांडी को तोड़ा जाता है जिसे देखने के लाइये देश के कई हिस्सो में भारी भीड़ जुटती है।

दही हांडी तोड़ने के लिए बनाई जाती है टीम

दही हांडी महाराष्ट्र और गुजरात जैसे पश्चिमी राज्यों में अधिक लोकप्रिय है। मंडल नामक समर्पित टीमें हैं जो नियमित रूप से आयोजन से पहले अभ्यास करती हैं। इससे उन्हें अंतिम व्यक्ति (जिसे ‘गोविंदा’ कहा जाता है) को शीर्ष पर पहुंचने और मिट्टी के बर्तन को तोड़ने में सक्षम करने के लिए एक-दूसरे के कंधों के समर्थन में खड़ा होना पड़ता है। इस प्रक्रिया मे लोगो को काफी ज्यादा चोट का समान करना पड़ता है।

OMG; उत्तर प्रदेश मे COVID-19 मामलों में 1 लाख 19 हजार का आंकड़ा पार, जाने पूरे देश का हाल…

Krishna Janmashtami 2020: हर हिन्दू पता होनी चाहिए भगवान कृष्ण की ये ख़ास बाते

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top