Birthday Special: टीम इंडिया की आधुनिक युग की दीवार, चेतेश्वर पुजारा!

Birthday Special: Cheteshwar Pujara, the modern age wall of Team India!

आधुनिक युग में भारतीय क्रिकेट के ‘द वॉल’ के नाम से मशहूर चेतेश्वर पुजारा आज (25 जनवरी) अपना 32 वां जन्मदिन मना रहे हैं। वह भारतीय टीम की अब तक की कई अविस्मरणीय टेस्ट जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभा चुके हैं। इसमें ऑस्ट्रेलियाई धरती पर लगातार दो टेस्ट सीरीज जीत शामिल हैं। दोनों ही मामलों में एक पूर्ण पाचन तंत्र है।

उन्होंने भारत के लिए 81 टेस्ट मैचों में 47.74 की औसत से 61,111 रन बनाए हैं। जिसमें उनके 18 शतक और 28 अर्द्धशतक शामिल हैं।

चेतेश्वर पुजारा के बारे में कुछ खास बातें – 

– पुजारा का जन्म 25 जनवरी, 1988 को गुजरात के राजकोट में हुआ था।

– उनके परिवार में क्रिकेट की पृष्ठभूमि थी। उनके पिता अरविंद पुजारा ने सौराष्ट्र के लिए 6 प्रथम श्रेणी क्रिकेट मैच खेले हैं। उन्होंने 172 रन बनाए थे। पुजारा के चाचा बिपिन पुजारा रणजी ट्रॉफी में सौराष्ट्र के लिए भी खेल चुके हैं। उन्होंने 36 मैचों में 1631 रन बनाए हैं।

-जब पुजारा ढाई साल के थे, तब उनके पिता ने उनके क्रिकेट कौशल पर ध्यान दिया। उनके पिता ने देखा कि उनके भाई-बहनों के साथ क्रिकेट खेलते हुए उनकी फोटो देखने के बाद उनका बल्लेबाजी संतुलन अच्छा था।

-दरअसल, पुजारा ने क्रिकेट की शुरुआत एक ऑलराउंडर के रूप में की। लेकिन तब भारत के पूर्व क्रिकेटर केसरन घवरी ने अपने पिता से कहा कि पुजारा को बल्लेबाजी पर ध्यान देना चाहिए।

-जब पुजारा 10 साल के थे, तो उनके पिता उन्हें गर्मियों में मुंबई ले आए। उस समय, उन्हें कुछ कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ा। उस समय, उन्होंने एक सप्ताह में तीन मैच और एक महीने में 12 मैच खेले।

2001 में, 12 साल की उम्र में, पुजारा ने सौराष्ट्र अंडर -14 टीम के लिए खेलते हुए बड़ौदा के खिलाफ 306 रन बनाए। पुजारा का कहना है कि यह खेल उनके भविष्य के करियर के लिए महत्वपूर्ण था।

-पुजारा ने अपनी स्कूली शिक्षा विरानी स्कूल से ली है। उनके गुरु केसरन घवरी ने भी इसी स्कूल से पढ़ाई की है।

-पुजारा उस समय हैरान रह गए, जब 2005 में युवा क्रिकेट खेलते हुए उनकी मां की कैंसर से मौत हो गई। उनकी मां ने कहा था कि जब वह भारतीय टीम में शामिल होंगे, तो उनके लिए रुकना मुश्किल होगा।

पुजारा 2006 के अंडर -19 विश्व कप में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज थे। उन्होंने 117 की औसत से 6 पारियों में 349 रन बनाए थे। लेकिन उस समय, भारत को पाकिस्तान के खिलाफ फाइनल मैच हारना पड़ा।

-पुजारा ने भारत के लिए अपनी शुरुआत 2010 में ऑस्ट्रेलिया दौरे से की थी। उन्हें दौरे के दूसरे टेस्ट के लिए अंतिम 11 में चोटिल गौतम गंभीर की जगह लिया गया था। उन्होंने पहली पारी में 3 और दूसरी पारी में 74 रन बनाए थे।

पुजारा को 2013 में ICC ने इमर्जिंग क्रिकेटर ऑफ द ईयर घोषित किया था।

-पुजारा ने आईपीएल में कोलकाता नाइट राइडर्स, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और किंग्स इलेवन पंजाब का प्रतिनिधित्व किया है।

-पुजारा काउंटी क्रिकेट में डर्बीशायर के लिए भी क्रिकेट खेल चुके हैं।

IND Vs AUS:टीम इंडिया इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए इस दिन होगी चेन्नई रवाना

IPL 2021: आईपीएल से हो रहे विदेशी मालामाल, इन बड़े खिलाड़ियो का नाम शामिल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *