Bakrid 2020: जाने ईद क्यों मनाई जाती है बकरीद, जाने इसका पूरा इतिहास

Bakrid 2020: इस बड़ी वजह से दी जाती है बकरे की कुर्बानी, जाने इस पर्व का महत्व

Bakrid 2020: बकरीद का त्यौहार मुसलमानों के सबसे प्रमुख त्योहारों में से एक होता है। यह तो हर मीठी ईद के ठीक 2 महीने बाद मनाया जाता है। इसके साथ इस्लामिक कैलेंडर में सोमवार को ईद उल अजहा के नाम से जाना जाता है। इसके साथ ही बकरीद का त्यौहार 31 जुलाई को भी मनाया जा सकता है।  लेकिन चांद ना दिखने के आधार पर कुछ स्थानों पर यह त्योहार 1 अगस्त को भी मनाया जा सकता है। लेकिन कोरोनावायरस चलते ईद पर पड़ने वाले इस त्योहार का रंग भी फीका पड़ सकता है तो आज हम आप लोगों को बकरीद के इतिहास के बारे में बताने जा रहे हैं। तो आइए जानते हैं इसके बारे में…

बकरीद का इतिहास

इस्लामिक मान्यताओं के अनुसार हजरत इब्राहिम को अल्लाह का पैगंबर बताया गया है। इब्राहिम पूरी उम्र लोगों की सेवा में लगे रहे।  लेकिन करीब 90 साल की उम्र तक उनके कोई संतान नहीं हुई। लेकिन अल्लाह की इबादत करने के बाद उन्हें एक चांद सा बेटा इस्माइल हुआ लेकिन एक दिन इब्राहिम को सपने में आया के अल्लाह उन्हें उनकी सबसे प्यारी चीज कुर्बान करने का आदेश दे रहे हैं। जिसके बाद उन्होंने अपने सभी प्रिय जानवर कुर्बान कर दिए। लेकिन एक बार फिर उन्हें यह सपना आया तो उन्होंने इस बार अपने सबसे प्यारे बेटे इस्माइल को कुर्बान करने का प्रण लिया।

बेटे इस्माइल की कुर्बानी करने के लिए इब्राहिम ने अपनी आंख पर पट्टी बांधकर अपने बेटे की कुर्बानी दी। लेकिन जब उसने पट्टी हटाकर देखा तो वहां पर उसका बेटा दूसरी जगह खेल रहा था जबकि उसकी जगह एक बकरी की कुर्बानी दी गई थी। उसी समय से बकरे की कुर्बानी देने की परंपरा चली आ रही हैं। इसके बाद से ही हर मुस्लिम परिवार बकरे की कुर्बानी देता है। चाहे वह बकरे को पाले या ना पाले। लेकिन बकरे के साथ लगाव करने के लिए बकरीद से कुछ दिन पहले बकरे को खरीद कर लाया जाता है।

OMG; उत्तर प्रदेश में हुय 70,493 मरीज मरने वाले हुए 1,456…

Bakrid 2020: जाने कब है बकरीद, भारत में कब मनाई जाएगी बकरीद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *