2011 विश्व कप के फाइनल फिक्सिंग के दावों में श्रीलंका ने फैसला लिया, जाने…


कुमार संगकारा, उपुल थरंगा और अरविंदा डी सिल्वा (2011 विश्व कप के दौरान मुख्य चयनकर्ता) से पूछताछ करने के बाद श्रीलंकाई खेल मंत्रालय ने 2011 में फाइनल होने के दावों की जांच बंद करने का फैसला किया है. आरोप पूर्व खेल मंत्री महेंद्रानंद अलुथगामगे ने लगाए

2011 विश्व कपके फाइनल फिक्सिंग के दावों में श्रीलंका ने फैसला लिया, जाने...

अलुथगामगे जो 2011 विश्व कप के दौरान खेल मंत्री थे ने फाइनल में श्रीलंका द्वारा किए गए चार बदलावों के बारे में चिंता जताई. एंजेलो मैथ्यूज प्रतियोगिता में शामिल नहीं हुए जबकि मुथैया मुरलीधरन चोट के बावजूद नही खेले. अब गिराई गई जांच के साथ अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने भी स्पष्ट किया है कि उन्हें गलत कामों का कोई सबूत नहीं मिला है.

आईसीसी की एंटी करप्शन यूनिट के महाप्रबंधक एलेक्स मार्शल ने कहा आईसीसी की इंटीग्रिटी यूनिट ने आईसीसी पुरुष क्रिकेट विश्व कप फाइनल 2011 के संबंध में हाल के आरोपों पर गौर किया है. इस समय हमें किसी भी सबूत के साथ प्रस्तुत नहीं किया गया है जो किए गए दावों का समर्थन करता है या जो आईसीसी भ्रष्टाचार-निरोधी संहिता के तहत एक जांच शुरू करने का गुण देगा.

Sri Lanka Government ने दिए World Cup 2011 के जांच के ...

तत्कालीन श्रीलंका के खेल मंत्री द्वारा आईसीसी और वरिष्ठ आईसीसी कर्मचारियों को भेजे गए इस मामले के बारे में किसी भी पत्र का कोई रिकॉर्ड नहीं है. इस बात की पुष्टि की है कि उनके पास ऐसा कोई भी पत्र प्राप्त करने का कोई स्मरण नहीं है जिसके कारण जाँच हुई हो. आईसीसी पुरुष क्रिकेट विश्व कप फाइनल 2011 की अखंडता पर संदेह करने का कोई कारण नहीं है. हम इस प्रकृति के सभी आरोपों को बहुत गंभीरता से लेते हैं और हमें दावों की पुष्टि करने के लिए कोई सबूत प्राप्त करना चाहिए हम अपनी वर्तमान स्थिति की समीक्षा करेंगे.

जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ी सिल्वा से छह घंटे पूछताछ की गई जबकि संगकारा से आठ घंटे तक पूछताछ की गई तब कप्तान महेला जयवर्धने को भी पूछताछ के लिए आने के लिए कहा गया था लेकिन उनके साक्षात्कार से पहले जांच बंद कर दी गई.

जयवर्धने ने मुंबई में फाइनल में श्रीलंका को 6 विकेट पर 274 रनों का स्कोर बनाने में मदद की. भारत हालांक गौतम गंभीर के 97 और महेंद्र सिंह धोनी के नाबाद 79-गेंद 91 के स्कोर के बाद छह विकेट से लक्ष्य का पीछा करने में सफल रहा.

परिवार के पास दो वक्त की रोटी खाने के लिए भी मुश्किल से पैसा हो पाता था…

क्रिकेट की 5 टीमों में सबसे खतरनाक सलामी जोड़ी, नंबर 1 पर यह जोड़ी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top