5 जुलाई का चंद्र ग्रहण के साथ है गुरु पूर्णिमा

5 जुलाई को संपूर्ण भारत में गुरु पूर्णिमा को एक तयौहार की तरह से मनाया जाएगा। हालांकि गुरु पूर्णिमा को भारतवर्ष में प्रमुख त्योहार की तरह बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। 5 जुलाई को गुरु पूर्णिमा के साथ चंद्रग्रहण भी होने वाले हैं। तो आइए जानते हैं पूरी जानकारी देते हैं

5 जुलाई का चंद्र ग्रहण के साथ है गुरु पूर्णिमा, जाने

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सनातन धर्म गुरु को भगवान से भी ऊंचा स्थान दिया गया है। इसीलिए हमारे शास्त्रों में एक दोहा संत कबीर जी द्वारा लिखा हुआ है बहुत ही प्रसिद्ध है जो निम्न प्रकार है- 
गुरु गोविन्द दोनों खड़े, काके लागूं पांय।
बलिहारी गुरु आपने, गोविंद दियो बताय॥

इसके अलावा हमारे संस्कृत के शास्त्रों गीता-पुराण आदि में भी एक श्लोक बेहद ज्यादा मशहूर है जो निम्न प्रकार है –
गुरुर्ब्रह्मा ग्रुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः। 
गुरुः साक्षात् परं ब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः ॥

इन दोहो और श्लोको से साफ जाहिर होता है कि सनातन धर्म में गुरु और शिष्य का कितना गहरा और कितना ऊंचा स्थान बताया गया है। सनातन धर्म में सबसे पहले माता-पिता और उसके बाद गुरु को ही स्थान दिया गया है। क्योंकि जैसा आपने ऊपर के श्लोक में पड़ा है उसका अर्थ है- गुरु ही ब्रह्मा है, और गुरु विष्णु है, गुरु ही महेश्वर(भोले नाथ) हैं, और गुरु ही साक्षात परम ब्रह्मा है इसीलिए हे गुरु आपको मैं मेरा शत-शत नमन।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top